सम्राट ने बिहार विधानसभा मार्च पर लाठीचार्ज के विरोध में धरना पर बैठते हुए कहा कि आंदोलन जारी रहेगा।

पटना 15 जुलाई 2023: शनिवार को राज्य के सभी जिला और प्रखंड मुख्यालयों में भाजपा नेता और कार्यकर्ता धरना पर बैठे, गुरुवार को बिहार विधानसभा मार्च के दौरान भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं पर हुए लाठीचार्ज के विरोध में। इस दौरान, भाजपा नेता प्रदेश कार्यालय के बाहर धरने पर बैठे और नीतीश सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते रहे।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सम्राट चौधरी के नेतृत्व में कई सांसद, विधायक और पूर्व मंत्रियों ने इस धरना कार्यक्रम में हिस्सा लिया। सम्राट चौधरी ने इस धरना कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को चेतावनी देते हुए कहा कि आंदोलन उनके डर से समाप्त नहीं होने वाला है, यह आगे भी जारी रहेगा। उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि टीईटी और एसटीईटी पास अभ्यर्थियों को अब कोई परीक्षा की जरूरत नहीं है, बल्कि सरकार उन्हें सीधे नौकरी देगी।

उनका कहना था कि पहली कैबिनेट बैठक में तेजस्वी कुमार जी ने 10 लाख लोगों को रोजगार देने का वादा किया था, लेकिन भाजपा आंदोलन करेगी जब तक 10 लाख नौकरी नहीं दी जाती। नीतीश सरकार भयभीत है। यह संघर्ष जारी रहेगा। हर एक कतरा उनके खून से बाहर निकलने को तैयार है। भाजपा डरने वाली नहीं है कि सरकार क्या करेगी।

उन्होंने लालू प्रसाद पर सियासी हमला बोलते हुए कहा कि उनका पूरा परिवार घोटाले में शामिल है। रेलवे में गलत तरीके से नौकरी दी जाती थी, जिससे गरीब लोगों की जमीन लिखवा दी जाती थी। उनका दावा था कि आज पूरे राज्य में भाजपा कार्यकर्ता धरने पर बैठे हैं। अगुआनी पुल के बह जाने को लेकर भी उन्होंने सरकार को घेर लिया।उनका दावा था कि नीतीश कुमार ने सीएम आवास से लाठी चार्ज की निगरानी की। उनका दावा था कि साथी विजय सिंह का बलिदान व्यर्थ नहीं होगा। विपक्षी नेता विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि हमलोग लालू के जंगलराज से बिहार को बचाया। भाजपा भयभीत नहीं है। उनका दावा था कि यह आंदोलन जारी रहेगा।

बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के घर CBI की दबिश

error: Content is protected !!