विधायक बने स्पा सेंटर्स के सरंक्षक: राजधानी में 150 से अधिक स्पा सेंटर्स संचालित, अधिकांश में हो रहे गलत काम.. विधायक बोले-

रायपुर 19 मई 2023.  राजधानी में संचालित स्पा सेंटरों का अपना यूनियन है जिसके सरंक्षक विधायक है। बीते दिनों पुलिस ने स्पा सेंटरों और होटलो में छापेमारी कर दर्जन भर से अधिक आरोपितों पर कार्यवाही किया था। स्पा सेंटर्स में मसाज के नाम पर देह व्यापार संचालित होने की शिकायते आम रही है। राजधानी में संचालित स्पा सेंटर के संचालको का “छत्तीसगढ़ स्पा वेलफेयर यूनियन”(cswa) है, जिसके अध्यक्ष जयदीप बनर्जी और उपाध्यक्ष विनोद अग्रवाल है तो सरंक्षक रायपुर के विधायक विकास उपाध्याय है।

अंदरूनी खबर: ईडी के डर से विधायक और कारोबारी भूमिगत, आप विधायक का वीडियो !

 

दरअसल पुलिस ने बीते दिनों वीआईपी चौक के एक बड़े होटल में संचालित स्पा सेंटर में छापेमार कार्यवाही किया था, स्पा सेंटर के मेन गेन में ही छत्तीसगढ़ स्पा वेलफेयर यूनियन”(cswa) का बड़ा सा बोर्ड लगा है, जिसमे विकास उपाध्याय को यूनियन का सरंक्षक बताया गया है। ऐसा बोर्ड राजधानी के अधिकांश स्पा सेंटर्स में लगा है। इस बोर्ड की सच्चाई जानने स्वतंत्र बोल ने उसके अध्यक्ष जयदीप बनर्जी से बात की तो उन्होंने स्वीकार किया कि विकास उपाध्याय यूनियन के सरंक्षक है, और उनकी सहमति के बाद ही उनका नाम लिखा गया है।

अधिकांश यूनियन से बाहर-
जानकारी अनुसार राजधानी में करीब 150 से अधिक स्पा सेंटर का सञ्चालन होता है जिसमे करीब 40 ही इस यूनियन में शामिल है। यूनियन में शामिल सभी स्पा सेंटरों में यह बोर्ड देखने को मिलेगा। यूनियन के अध्यक्ष जयदीप बनर्जी ने कहा कि
“जांच पड़ताल के बाद ही सरकारी नियमो का पालन करने वाले स्पा सेंटरों को यूनियन में शामिल किया जाता है, गलत कार्यो में शामिल स्पा सेण्टर्स को बाहर भी किया गया है। यूनियन ने कई सामाजिक कार्य भी किया है।”
विधायक ने कहा- मेरा लेना देना नहीं।
उधर स्पा यूनियन के सरंक्षक होने पर विधायक विकास उपाध्याय ने कहा कि “कोरोना संक्रमण काल में अनेक सामाजिक संस्थाओ ने खाना बाटने सहित अनेक कार्य किये, उसमे इस संस्था ने भी किया था..पर मै किसी भी स्पा यूनियन में शामिल नहीं हूँ, ना ही मेरा कोई लेना देना है।”
उधर यूनियन के अध्यक्ष विकास उपाध्याय को सरंक्षक बता रहे और विधायक ने इससे इंकार किया है। विश्वसनीय सूत्र बताते है कि स्पा सेंटर्स संचालक किसी भी प्रकार की कार्यवाही से बचने या प्रभावित करने के उद्देश्य से बोर्ड में विकास उपाध्याय का नाम लिखवा रखे है, कारण कुछ और भी हो सकता है।

 

बड़ी खबर : 2000 के नोट होंगे बंद, अब चलन से बाहर होगा 2000 का नोट..आरबीआई का फैसला।

 

 

error: Content is protected !!