भर्ती में गड़बड़ी की शिकायत पहुंची पीएमओ, मुख्य सचिव से माँगा रिपोर्ट.. जाँच को प्रभावित करने एकजुट हुआ प्रबंधन!

रायपुर/बिलासपुर 16 मई 2023.  पंडित सुंदरलाल शर्मा मुक्त विश्वविद्यालय में विभिन्न पदों पर होने वाली नियुक्तियों में गड़बड़ी की शिकायत पर पीएमओ ने सज्ञान लिया है। पीएमओ ने मुख्य सचिव से जाँच कर कार्यवाही रिपोर्ट तलब किया है। पीएमओ के आदेशों पर मुख्य सचिव कार्यालय ने कलेक्टर बिलासपुर से जवाब मांगा है। विदित है कि विश्वविद्यालय में जारी 8 पदों की नियुक्तियों में गड़बड़ी की आशंका व्यक्त की गई है। भर्ती के पहले ही चयनित होने वाले अभ्यर्थियों का नाम सामने आया था। मुख्य सचिव के निर्देशों पर कलेक्टर सौरभ कुमार ने उच्च शिक्षा विभाग के अपर संचालक पीके पांडेय को जाँच का सौपा है।

भर्ती में गड़बड़ी: राजभवन ने विश्वविद्यालय प्रबंधन से मांगा जवाब, नियुक्ति के पहले वायरल हुई थी सूची।

जाँच को प्रभावित करने जुटा विश्वविद्यालय प्रबंधन-
पीएमओ के निर्देशों पर हो रही जाँच को प्रभावित करने विश्वविद्यालय प्रबंधन जुट गया है। जाँच अधिकारी के अनुसार कुलपति डॉ बंशगोपाल सिंह ने मामला उच्च न्यायलय में लंबित होने की जानकारी दी है। ऐसे में जाँच नहीं होने संबंधी बाते कही गई है। दरअसल विश्वविद्यालय द्वारा निकाले गए विज्ञापन और बिना भर्ती नियमो के होने वाली भर्ती प्रक्रिया को किरण दुबे नामक अभ्यर्थी ने चुनौती दी है, जो अभी उच्च न्यायालय है। इसी को आधार बनाकर कुलपति ने जाँच अधिकारी को भ्रमित किया है। अब सवाल उठ रहा कि मामला उच्च न्यायालय में पेंडिंग होने के बाद भी आनन फानन में भर्ती प्रक्रिया के लिए इंटरव्यू क्यों की गई।

क़ानूनी जानकारों के अनुसार कोई भी मामला पेंडिंग होने पर उसे रोक देना चाहिए। यहाँ बताना जरुरी है कि न्यायालयीन प्रक्रिया का लाभ लेकर विश्वविद्यालय प्रबंधन जाँच को प्रभावित करने और भर्ती करने में जुटा हुआ है। एक तथ्य यह भी है कि कुलपति पर लगे आरोपों की जाँच अपर संचालक स्तर अधिकारी नहीं कर सकते पर कलेक्टर द्वारा ऐसा कराया जा रहा है। जाँच अधिकारी पीके पांडेय ने स्वतंत्र बोल को बताया कि
कलेक्टर से मिले निर्देशों पर जाँच करने गए थे, कुलपति से मुलाकात कर लौट गए। जाँच के संबंध में स्थिति स्पष्ट नहीं है, और मामला कोर्ट में पेंडिंग होने की जानकारी मिली है, कलेक्टर को परिस्थितयो से अवगत कराया जायेगा।”

पीएससी के कारनामे: राज्य सेवा आयोग ने अयोग्य को बनाया था डिप्टी रजिस्ट्रार, फिर बना दिया रजिस्ट्रार..

error: Content is protected !!