राहुल, अवधेश और योगेश के बीच मुकाबले में दीपेश को कैसे मिला टिकट ?

स्वतंत्र बोल
बेमेतरा, 25 अक्टूबर 2023.  भारतीय जनता पार्टी ने लंबे चिंतन मनन और जांच परख के बाद बेमेतरा विधानसभा के लिए उम्मीदवार का ऐलान किया। बीजेपी ने पिछड़ा वर्ग मोर्चा के दीपेश साहू को उम्मीदवार बनाया है। बेमेतरा विधानसभा के लिए पार्टी का शीर्ष नेतृत्व एकमत नहीं हो पा रहा था, जातिय समीकरण और सभी वर्गों को साधने की कवायद में बीजेपी नेता यह तय नहीं कर पा रहे थे। बीजेपी में पूर्व जिलाध्यक्ष राजेंद्र शर्मा, जिला पंचायत सदस्य राहुल टिकरिहा, संध्या परगनिहा, अवधेश चंदेल का नाम उम्मीदवारों की रेस में शामिल था पर आखरी समय में पार्टी ने दीपेश साहू के नाम पर मोहर लगाया। दीपेश को बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष अरुण साव का की पसंद बताया जा रहा है।
बताते है कि उम्मीदवार चयन को लेकर बीजेपी नेता एक मत नहीं हो पा रहे थे, पूर्व सीएम डॉ रमन सिंह पूर्व विधायक अवधेश चंदेल और हाल ही बीजेपी में शामिल हुए योगेश तिवारी के पक्षधर थे, दूसरे नेता राहुल टिकरिहा के। टिकरिहा का सत्तारूढ़ पार्टी के विधायक के खिलाफ लगातार मोर्चा खोल बीजेपी नेताओ का ध्यान खींचने में कामयाब रहा। बीजेपी के अंदरूनी सूत्र बताते है कि बीजेपी नेताओ ने अवधेश चंदेल और राहुल टिकरिहा से उनके कोर्ट कचहरी और अन्य मामलो से सम्बंधित पेपर्स भी मंगाए थे, पर मामला योगेश तिवारी के शक्ति प्रदर्शन के साथ बीजेपी प्रवेश से बिगड़ गया। हालाँकि योगेश को उम्मीदवार बनाना आसान नहीं था, उन पर पूर्व में बीजेपी नेताओ के खिलाफ किये प्रचार और अन्य कई ऐसे कारण थे जो उम्मीदवारी की राह में रोड़ा बने। राहुल टिकरिहा ने सत्तासीन पार्टी के धनी विधायक के खिलाफ लगातार मोर्चा खोल राजधानी और दिल्ली में बैठे नेताओ का ध्यान जरूर आकर्षित किया पर किसी गुट में शामिल नहीं होने के चलते उम्मीदवारी से वंचित रहे। उम्मीदवार बनाये गए दीपेश साहू को अरुण साव का समर्थन और पंडरिया में एवं बेलतरा सीटों से सामान्य वर्ग के उम्मीदवार तय होने का लाभ मिला। उधर बीजेपी द्वारा उम्मीदवार घोषित करने के बाद सत्तापक्ष के कार्यकर्ताओ में ख़ुशी की लहर है।
error: Content is protected !!